रविवार, 24 जून 2012

रिश्ता ..............

आदमी को 
चाहिए थी औरत 
औरत को एक रिश्ता ....
दोनों के बीच था 
गहरा समंदर ....
न वो आर हुए ....
न पार ....
बस  बंधे रहे 
डोर के दो सिरों से .........
( "काव्य-लहरी " में प्रकाशित )

7 टिप्‍पणियां:

  1. तैरने की कुशलता सिखाई नहीं जा सकती !

    उत्तर देंहटाएं
  2. समंदर को पार करना आसान कहाँ है .... सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. अनुपम भाव लिए बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर और शानदार प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. साथ साथ मूक चलना भी आसान नहीं रहा होगा ... पट मजबूरियों के ये समुन्दर कोशिश से ही पार हो जाता ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सभी का शुक्रिया ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये विश्वास की डोर ही दोनों सिरों को बंधे रखती हैं

    उत्तर देंहटाएं