मंगलवार, 1 जनवरी 2013

कुछ दूर ओर .......यूँ ही

कुछ विश्वास
बाकी हैं
अविश्वासों के
घेरे में ....
चलो खींच ले चले
इसे
नई सदी की ओर ...!
तांकि
पिछली सदी का बोझ
कुछ तो हो हल्का
नई सदी में
एहसास तो हो
'कल 'का
खाली सफों पर
जब लिखें जायेंगे
जवाब ...
विश्वास रह ना जाये
बीती सदी की बात .....
आओ खींच ले चले ...
कुछ दूर ओर .......
कुछ दूर ओर .......यूँ ही






सर्वाधिकार सुरक्षित

10 टिप्‍पणियां:

  1. चलते हैं - बिना किसी शिकायत के
    दृढ संकल्प लिए - अब नहीं हारेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  2. उम्मीद का
    एक छोर थामे
    पा लेगें किनारा ...... !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब लिखा ...विश्वास का दामन ना छोड़ते हुए ...आगे बदते हुए ...सकारात्मक रचना ...बधाई .........

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक उम्मीद की किरण अब भी बाकि है

    उत्तर देंहटाएं


  5. ♥(¯`'•.¸(¯`•*♥♥*•¯)¸.•'´¯)♥
    ♥नव वर्ष मंगलमय हो !♥
    ♥(_¸.•'´(_•*♥♥*•_)`'• .¸_)♥




    कुछ विश्वास
    बाकी हैं
    अविश्वासों के
    घेरे में ....
    चलो खींच ले चले
    इसे
    नई सदी की ओर ...!

    यही सही रास्ता है !
    आदरणीया अंजु जी
    सुंदर सार्थक सामयिक रचना के लिए साधुवाद!


    आपकी लेखनी से सदैव , श्रेष्ठ सृजन होता रहे …
    नव वर्ष की शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ◄▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼►

    उत्तर देंहटाएं
  6. बस ..इसी विश्वास के बल पर ही आगे चलते चले जाना है... बहुत अच्छी रचना अंजू जी

    उत्तर देंहटाएं
  7. अंजू जी ...बेहतरीन ,,,सकारात्मक भाव ...अविश्वास के बीच विश्वास की अनुकम्पा ...बहुत ही उम्दा भाव ............

    उत्तर देंहटाएं
  8. विश्वास रह ना जाये
    बीती सदी की बात .....
    आओ खींच ले चले ...
    कुछ दूर ओर .......
    कुछ दूर ओर .......यूँ ही
    -----------------------
    behad sundar....

    उत्तर देंहटाएं