मंगलवार, 27 सितंबर 2011

तुम.....

तुम झूठ  पे झूठ कहते रहे

मैं यकीं पे यकीं चिनती रही ....

मेरे यकीं के पुल के नीचे से 

तेरे झूठ की नदी बहती रही ... 

3 टिप्‍पणियां:

  1. मेरे यकीं के पुल के नीचे से

    तेरे झूठ की नदी बहती रही ...

    कितनी गहन बात ...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं


  2. मेरे यकीं के पुल के नीचे से
    तेरे झूठ की नदी बहती रही …


    बहुत सुंदर !


    आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व एवं दुर्गा पूजा की बधाई-शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  3. चंद पंक्तियाँ आप को पसंद आई इसके लिए धन्यवाद संगीता जी ,राजेंद्र स्वर्णकार जी

    उत्तर देंहटाएं