गुरुवार, 3 नवंबर 2011

राधा .....




राधा तो धारा है 

जो आज भी बहती है 

तेरे मेरे चितवन के ,

गहरे सागर में रहती है ......
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                        

10 टिप्‍पणियां:

  1. सुभानाल्लाह...........बहुत खूबसूरत|

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुक्रिया इमरान जी ,संगीत जी ,और सुषमा जी आपका भी ......

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्योंकि राधा प्यार है ... प्यार की गति अबाध है

    उत्तर देंहटाएं
  4. राधा तो धारा है

    जो आज भी बहती है

    तेरे मेरे चितवन के ,

    गहरे सागर में रहती है ....


    बहुत खूब ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. राधा तो धारा है

    जो आज भी बहती है

    तेरे मेरे चितवन के ,

    गहरे सागर में रहती है ....


    बहुत खूब ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुक्रिया रश्मि जी,हरकीरत जी...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपका राधा का भाव और प्रस्तुति का
    अंदाज अच्छा लगा,अंजू जी.

    उत्तर देंहटाएं
  8. Simply put, wonderfully expressed!!

    संजय भास्कर
    आदत...मुस्कुराने की
    ब्लॉग पर आपका स्वागत है
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं