शुक्रवार, 13 जनवरी 2012

सुर और ताल .......


वेद
बन गए वाद.....
शास्त्र
बन गए शस्त्र...
और ‘गीता’ 
रह गई , 
बन कर गीत....





कौन हैं ‘जो
सुर पहचाने
कौन है 'जो'
ताल मिलाए
बैठे हैं , सब के सब
जाल बिछाए..........!!!!!



(....'काव्यांजलि' से ....)
 (काव्य संग्रह...चंडीगढ़ साहित्य अकादेमी) 


6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सटीक हैं शब्द और उनमे छुपा अर्थ .....हैट्स ऑफ इसके लिए|

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सटीक और सार्थक.... सहज शब्दों में बहुत गहरी बात.....कह दी अपने....

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिनके पास सुर है... वे हैं सहमे हुए

    उत्तर देंहटाएं
  4. सार्थक बात कही है ... अभी तो सुर ताल कुछ भी नहीं मिल रहा ..सब अपनी ढपली और अपना राग गा रहे हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर रचना !

    मेरी नई पोस्ट पे आपका वागत है !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया,
    बड़ी खूबसूरती से सार्थक बात कही

    उत्तर देंहटाएं